उपसर्ग की परिभाषा, भेद, उदाहरण

उपसर्ग की परिभाषा, भेद, उदाहरण

हेलो स्टूडेंट्स, आज हम इस पोस्ट में उपसर्ग की परिभाषा के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे | इस पोस्ट को पड़ने के बाद आपको upsarg ki paribhasha और उसके भेद में कोई कठिनाई नहीं होगी |

उपसर्ग की परिभाषा – Upsarg Ki Paribhasha:

जो सार्थक शब्दों से पहले जुड़कर उनके अर्थ को बदल देते हैं या उनकी विशेषता प्रकट करते हैं उन्हें उपसर्ग कहते हैं |

उपसर्ग के भेद – Upsarg Ke Bhed:

1. संस्कृत उपसर्ग

2. हिन्दी उपसर्ग

3. फारसी उपसर्ग

1. संस्कृत उपसर्ग – Sanskrit Ke Upsarg:

      उपसर्ग                                         उदाहरण

प्र                                                     प्रगति, प्रारम्भिक, प्रबल, प्रसन्न सम

सम                                                  संस्था, सम्मान, संगति, संस्कार, सम्पूर्ण

अव                                                  अवगुण, अवनति, अवतरण

निर                                                   निर्बल, निर्जन, निर्धन, निर्माण |

दुस                                                   दुष्कर्म, दुष्चरित्र, दुस्साहस

दुर                                                    दुर्दशा, दुर्जन, दुर्गम

नि                                                    निवारण, नियुक्त, निधन

अधि                                                 अधिकर, अधिपति, अध्यक्ष

अति                                                 अत्युत्तम, अत्यन्त, अतिकाल, अत्याचार

सु                                                    सुडौल, सुअवसर, सुगम

उत                                                   उत्थान, उत्पन्न, उद्धार, उत्कर्ष, उन्मुक्त, उत्तम

अभि                                                 अभ्यास, अभिमुख, अभयागत, अभिमान

प्रति                                                  प्रत्यक्ष, प्रतिकूल, प्रत्येक |

परि                                                  परिजन, परिक्रमा, परिपूर्ण

उप                                                  उपकार, उपमान, उपमन्त्री, उपयोग

सु                                                  स्वच्छ, स्वागत, सुकर्म, सुकर

सत्                                                  सद्भावना, सत्पुरूष, सत्कर्म,

सत                                                   सद्गति, सज्जन, सत्संग

अधः                                                 अधोपतन, अधोगति, अधोमुखी, अधस्थल

अप                                                  अपमान   , अपयश, अपहरण, अपराध, अपकर्ष

2. हिंदी के उपसर्ग – Hindi ke Upsarg :

उपसर्गअर्थउपसर्ग से बने शब्द
अननिषेध अर्थ मेंअनमोल, अलग, अनजान, अनकहा, अनदेखा इत्यादि।
अध्आधे अर्थ मेंअधजला, अधखिला, अधपका, अधकचरा, अधकच्चा, अधमरा इत्यादि।
उनएक कमउनतीस, उनचास, उनसठ, इत्यादि।
भरपूरा ,ठीकभरपेट, भरपूर, भरदिन इत्यादि।
दुबुरा, हीन, विशेषदुबला, दुर्जन, दुर्बल, दुकाल इत्यादि।
निआभाव, विशेषनिगोड़ा, निडर, निकम्मा इत्यादि।
अभाव, निषेधअछूता, अथाह, अटल
बुरा, हीनकपूत, कचोट
कुबुराकुचाल, कुचैला, कुचक्र
अवहीन, निषेधऔगुन, औघर, औसर, औसान
भरपूराभरपेट, भरपूर, भरसक, भरमार
सुअच्छासुडौल, सुजान, सुघड़, सुफल
परदूसरा, बाद कापरलोक, परोपकार, परसर्ग, परहित
बिनबिना, निषेधबिनब्याहा, बिनबादल, बिनपाए, बिनजाने

3. फारसी के उपसर्ग – Farsi Ke Upsarg :

उपसर्गअर्थउपसर्ग से बने शब्द
लाबिनालाचार, लाजवाब, लापरवाह, लापता इत्यादि।
बदबुराबदसूरत, बदनाम, बददिमाग, बदमाश, बदकिस्मत इत्यादि।
बेबिनाबेकाम, बेअसर, बेरहम, बेईमान, बेरहम इत्यादि।
कमथोड़ा, हीनकमसिन, कामखयाल, कमज़ोर, कमदिमाग, कमजात, इत्यादि।
ग़ैरके बिना, निषेधगैरकानूनी, गैरजरूरी, ग़ैर हाज़िर, गैर सरकारी, इत्यादि।
खुशश्रेष्ठता के अर्थ मेंखुशनुमा, खुशगवार, खुशमिज़ाज, खुशबू, खुशदिल, खुशहाल इत्यादि।
नाअभावनाराज, नालायक, नादनामुमकिन, नादान, नापसन्द, नादान इत्यादि।
अलनिश्र्चितअलबत्ता, अलगरज आदि।
बरऊपर, पर, बाहरबरखास्त, बरदाश्त, बरवक्त इत्यादि।
बिलके साथबिलआखिर, बिलकुल, बिलवजह
हमबराबर, समानहमउम्र, हमदर्दी, हमपेशा इत्यादि।
दरमेंदरअसल, दरहक़ीक़त
फिल/फीमें प्रतिफिलहाल, फीआदमी
और, अनुसारबनाम, बदौलत, बदस्तूर, बगैर
बासहितबाकायदा, बाइज्जत, बाअदब, बामौक़ा
सरमुख्यसरताज, सरदार, सरपंच, सरकार
बिलाबिनाबिलावजह, बिलाशक
हरप्रत्येकहरदिन हरसाल हरएक हरबार

हमारी टीम आशा करती है कि यह upsarg in hindi का आर्टिकल पढ़ने के बाद आपको पूरा समझ आ गया होगा | इससे रिलेटेड कोई डाउट हो तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है, हमारे सब्जेक्ट टीचर रिप्लाई करेंगे |

उपसर्ग की TRICK Video

Caption: M.S SSC NOTES for all.

FAQs

उपसर्ग परिभाषा क्या है?

उपसर्ग उस शब्दांश या अव्यय को कहते है, जो किसी शब्द के पहले आकर उसका विशेष अर्थ प्रकट करता है।”[1] तात्पर्य यह है की जो शब्दांश किसी शब्द के पूर्व (पहले) जुड़ते हैं, उन्हें उपसर्ग कहते हैं। उपसर्ग दो शब्दों- उप + सर्ग के योग से बना है।

उपसर्ग क्या है उदाहरण सहित लिखिए?

उपसर्ग ऐसे शब्दांश जो किसी शब्द के पूर्व जुड़ कर उसके अर्थ में परिवर्तन कर देते हैं या उसके अर्थ में विशेषता ला देते हैं। उप (समीप) + सर्ग (सृष्टि करना) का अर्थ है – किसी शब्द के समीप आ कर नया शब्द बनाना। उदाहरण: प्र + हार = प्रहार, ‘हार’ शब्द का अर्थ है पराजय।

हिंदी में प्रत्यय के कितने प्रकार है?

जो प्रत्यय संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण के अंत में लगने के बाद नए शब्दों की रचना करते हैं , उन्हें तद्धित प्रत्यय कहते हैं । हिंदी में आठ प्रकार के तद्धित प्रत्यय होते हैं ।

व्याकरण में उपसर्ग कौन सा है?

व्याकरण ► वि (उपसर्ग) + आ (उपसर्ग) + करण (मूलशब्द) व्याकरण दो उपसर्ग से बना शब्द है, अनेक उपसर्ग ऐसे होते हैं, जिनमें दो उपसर्गों का प्रयोग होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *